रोगी पेंसिल्वेनिया में इबोला के लिए परीक्षण किया गया


समाचार रिपोर्टों के अनुसार, पेंसिल्वेनिया में एक मरीज का संभावित इबोला वायरस संक्रमण के लिए परीक्षण किया जा रहा है।

बुधवार (फ़रवरी 6), पेन्सिलवेनिया विश्वविद्यालय के अस्पताल (HUP) ने कहा कि यह स्थानीय वायरस आउटलेट NBC 10 फिलाडेल्फिया के अनुसार "सावधानी की एक बहुतायत" से घातक वायरस के लिए परीक्षण कर रहा था। प्रारंभिक परीक्षण के परिणामों से पता चलता है कि रोगी की एक और स्थिति है जो उनकी बीमारी का कारण है, लेकिन जब तक निश्चित परिणाम नहीं होते तब तक अस्पताल सावधानी बरतता है।

पेन मेडिसिन के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ। पैट्रिक जे ब्रेनन ने एनबीसी 10 को बताया, "एक मरीज जो इबोला परीक्षण के लिए स्क्रीनिंग मानदंडों को पूरा करता है, उसका मूल्यांकन वर्तमान में एचयूपी में किया जा रहा है, जबकि रोगी की स्थिति का आकलन करने के लिए परीक्षण पूरा हो गया है"।

अस्पताल ने मरीज की पहचान के बारे में या वे संभवतः इबोला के संपर्क में कैसे थे, इसके बारे में कोई और जानकारी जारी नहीं की।

पिछले महीने नेब्रास्का के एक अस्पताल में इबोला के लक्षणों के लिए एक अमेरिकी व्यक्ति की निगरानी की गई थी। डॉक्टरों का मानना ​​था कि आदमी को संभवतः अफ्रीका में रहते हुए वायरस के संपर्क में लाया गया था, लेकिन आदमी ने इबोला के लक्षणों को विकसित नहीं किया और एनबीसी न्यूज के अनुसार जनवरी के मध्य में अस्पताल से छोड़ दिया गया।

अगस्त 2018 से कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य में इबोला का प्रकोप जारी है। अब तक विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, देश में कम से कम 788 लोग इस बीमारी से बीमार हो चुके हैं और 486 लोगों की मौत हो चुकी है।

इबोला वायरस तब फैल सकता है जब कोई व्यक्ति संक्रमित व्यक्ति की शारीरिक तरल पदार्थों के संपर्क में आता है – जैसे रक्त, मूत्र, मल, लार या वीर्य – और तरल पदार्थ स्वस्थ व्यक्ति के शरीर में टूटी हुई त्वचा या श्लेष्मा झिल्ली के माध्यम से डब्ल्यूएचओ के अनुसार प्रवेश करते हैं।

पर मूल रूप से प्रकाशित लाइव साइंस